अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक

CMD Photo

इन्स्टीट्यूट ऑफ कॉस्ट एकाउन्टेन्ट्स ऑफ इन्डिया के सदस्य, श्री मनोज मिश्रा को सार्वजनिक क्षेत्र के कई उपक्रमों एवं सहकारी क्षेत्र में 30 वर्ष से अधिक का व्यावसायिक अनुभव प्राप्त है ।

जून, 2015 में एनएफएल के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक के रूप में नियुक्ति से पूर्व श्री मिश्रा स्टेट ट्रेडिंग कारपोरेशन (एसटीसी) में निदेशक (वित्त) के पद पर कार्यरत थे। 2010 में एसटीसी से जुड़ने से पूर्व    श्री मिश्रा ने कृषक भारती कोआपरेटिव लिमिटेड (कृभको) में 23 वर्ष तक विभिन्न पदों पर कार्य किया।

श्री मिश्रा जून, 2015 से फरवरी, 2017 तक रामागुण्डम फर्टिलाइज़र्स एण्ड केमिकल्स लिमिटेड (आरएफसीएल) के अध्यक्ष भी रहे। तेलंगाना राज्य के रामागुण्डम में  आरएफसीएल के बंद पडे यूरिया संयंत्र का पुनरुद्धार करके 1.27 मिलियन टन प्रति वर्ष क्षमता के नए यूरिया संयत्र की स्थापना हेतु नेशनल फर्टिलाइज़र्स लिमिटेड (एनएफएल), इंजीनियर्स इंडिया लिमिटेड (ईआईएल) और फर्टिलाइज़र कारपोरेशन ऑफ इण्डिया (एफसीआईएल) का एक संयुक्त उद्यम बनाया गया है।

श्री मिश्रा के पास जून, 2016 से मार्च, 2017 तक राष्ट्रीय केमिकल्स एण्ड फर्टिलाइज़र्स लिमिटेड (आरसीएफ) के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक का अतिरिक्त प्रभार भी रहा । वह ओडिशा के तालचर में कोयला आधारित उर्वरक संयंत्र स्थापित करने के लिए आरसीएफ, गेल, कोल इण्डिया लिमिटेड और फर्टिलाइज़र कारपोरेशन ऑफ इण्डिया (एफसीआईएल) के संयुक्त उद्यम, तालचर फर्टिलाइजर्स लिमिटेड (टीएफएल) के पदेन अध्यक्ष भी रहे हैं । कोयला गैसीकरण प्रक्रिया हेतु प्रौद्योगिकी को अन्तिम रूप देने सहित अनेक महत्वपूर्ण लक्ष्यो को प्राप्त करते हुए परियोजना को गति प्रदान करने में श्री मिश्रा ने अहम भूमिका निभाई |

उर्वरक उद्योग में व्यापक व्यावसायिक अनुभव के साथ, श्री मिश्रा इस उद्योग से संबंधित विभिन्न मुद्दों से भली भांति परिचित हैं।  उत्पाद श्रेणी के विस्तार और नए उद्यमों के साथ एनएफएल को नई पहचान देने का श्रेय इन्हें ही जाता है। यह एनएफएल को एकल उत्पाद कम्पनी से रूपांतरित कर विभिन्न प्रकार के उर्वरकों, बीजों, कृषि-रसायनों एवं औद्योगिक उत्पादों में स्टेक रखने वाला संगठन बनाने में सफल रहे।

टीम लीडर के रूप में, श्री मिश्रा टीम के सदस्यों के बीच परस्पर बात-चीत को प्रोत्साहित करते हैं ताकि विचारों का बेहतर आदान-प्रदान किया जा सके और परिणामस्वरूप संगठन की उत्पादकता में वृद्धि हो। इनके नेतृत्व में, एनएफएल ने 2016-17 में अब तक का सवश्रेष्ठ प्रदर्शन किया है ।

श्री मिश्रा ने उर्वरक क्षेत्र से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण कार्यों तथा व्यापार के अवसर तलाशने हेतु विदेश का दौरा भी किया है।  उर्वरक क्षेत्र में व्यापार की संभावनाएं तलाशने के संबंध में वह ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर, हांग कांग, ताइपेई, रूस, अलजीरिया, मोरक्को और अन्य अफ्रीकी देशों का भ्रमण कर चुके हैं।

अनवरत अनुशासन, कठिन परिश्रम और अपने व्यवसाय व कंपनी के प्रति पूरी प्रतिबद्धता ही श्री मिश्रा की सफलता की विशिष्टता है |

 

क्या नया है

Signएन.एफ.एल का पहली तिमाही में 66% लाभ बढा 

Signप्रैस विज्ञप्ति : एन.एफ.एल. ने जीता सर्वश्रेष्ठ पीएसयू पुरस्कार 

Signप्रैस विज्ञप्ति : एन.एफ.एल. को मिला राजभाषा (हिन्दी) प्रयोग के लिए तृतीय पुरकार  

Signप्रैस विज्ञप्ति : एनएफएल द्वारा प्रायोजित पैरा एथलीटों ने राष्ट्रीय चैंपियनशिप में 6 पदक  

Signनोटिस and प्रैस : 03.08.2018 को निदेशक मण्डल की बैठक 

Signनोटिस: ट्रेडिंग विंडो का समापन - 16.07.2018 

Signएनएफएल ने उर्वरक विभाग के साथ ज्ञापन समझौते पर हस्ताक्षर किए (2018-19) 

Signवित्‍तीय‍ परिणाम 2017-2018 

Signप्रेस नोट - एन.एफ.एल. हिन्दुस्तान पीएसयू अवार्ड 2018 से सम्मानित 

Signस्वच्छ भारत समर इंटर्न 

Signवार्षिक वित्तीय परिणाम 2017-18 का मीडिया कवरेज 

Signप्रेस नोट - एनएफएल ने 2017-18 के दौरान रु. 212.77 करोड़ का नेट लाभ अर्जित किया 

Signनिविदा सूचना - स्टॅटे ऑफिस शिमला के लिये कर्यालय किराये पर लेने हेतु & प्रेस विग्यप्ति 

Signप्रैस विज्ञप्ति - एन.एफ़.एल. का सी.एस.आर. के तहत सेना झण्डा दिवस निधि में योगदान 

Signनिदेशक मण्डल की बैठक की सूचना - 02.05.2018 

Signट्रेडिंग विंडो का समापन 

Signएनएफएल ने 2017-18 में किया सर्वाधिक उत्पादन 

Signएनएफएल को पीआरसीआई द्वारा गृह पत्रिका के लिए पुरस्‍कार 

Signदिसम्बर 2017 तिमाही के लिए वित्तीय निष्पादन 

Signनिदेशक (वित्‍त) को एनएफएल के वित्‍तीय प्रबंधन के लि